महानता की कसौटी

कोई भी व्यक्ति महान है या नहीं इसकी जाँच उसके कर्म, दर्शन और आदर्श के आधार पर करनी चाहिए। किसी व्यक्ति की महानता जब लोगों के लिए भक्ति का रूप ले लेता है, तब उसकी महानता का गला घोट देता है। किसी व्यक्ति की महानता आदर और आदर्श तक तो ठीक है, पर यदि यह भक्ति में परिवर्तित हो जाए, तब यह मानवता के लिए खतरनाक साबित होता है।