धर्म के ठप्पे इंसानियत के घाव

 जब तक धर्म के ठप्पे इंसानियत से अधिक गहरे हैंतब तक ये घाव बन कर समाज को सडाता रहेगा।