तकनीक के दौर में ईस्लाम और फ़तवे

तकनीक के दौर में ईस्लाम के फ़तवे आउटडेटिड होते जा रहे हैं। आप दे लो जितने फ़तवे देने हैं, तस्वीरें भी अपलोड होंगी और शेयर भी होंगे। किसी फंडू की औकात नहीं है कि इसे रोक दें। जो धर्म-सम्प्रदाय बदलते दौर के साथ खुद को अपडेट नहीं करता, वह अप्रासंगिक हो जाता है।